गर्भावस्था के समय मां को पता था पैदा होते ही नहीं बचेगी बच्‍ची, फिर भी अंगदान के लिए दिया जन्‍म

Quaint Media

New Delhi: अमेरिका की रहने वाले इस मां की कहानी को पढ़कर आप भी उन्हें सलाम करेंगे। 23 साल की क्रिस्टा की कहानी सुनकर हर कोई हैरान हैं। क्रिस्टा नाम की इस महिला को गर्भावस्था के समय पता था कि बेटी जिंदा नहीं बचेगी, लेकिन इसके बावजूद उन्होंने बेटी को जन्म दिया। उन्‍होंने उसे जन्‍म इसलिए दिया ताकि उसके अंगों का दान कर सकें।

क्रिस्टा डेविस को जब 18 हफ्ते की प्रेगनेंसी थी, तब उसे बताया गया कि उसकी बच्ची नॉर्मल नहीं है।बच्ची एक खतरनाक बीमारी से पीड़ित है। इस दुर्लभ बीमारी का नाम अनेनसेफली है। इसके होने से बच्चे का दिमाग या खोपड़ी पूरी तरह से विकसित नहीं हो पाती। डॉक्टर ने बताया कि बच्ची जन्म के बाद 30 मिनट से ज्यादा जीवित नहीं रह पाएगी। डॉक्टर ने बताया कि अभी वक्त है या तो वह अबॉर्शन करा लें या गर्भावस्था का समय पूरा करें। मां ने डॉक्टर द्वारा बताए गए दूसरे ऑप्शन को चुना।

उन्होंने बच्ची को जन्म देने का फैसला लिया। ताकि दूसरे बच्चे को जीवन जीने का मौका मिले। क्रिस्टा ने बताया कि यह मेरे लिए बहुत दुख की बात थी। इससे पहले एक बार मेरा मिसकैरेज हो चुका था। इस प्रेगनेंसी के वक्त बहुत सारी दिक्कतें आई थीं। ऐसा लगा जैसे सबकुछ छिन गया। बच्ची नए साल की शाम दुनिया को अलविदा कह गई। मगर, बच्ची उम्मीद से कहीं अधिक समय तक जीवित रही और उसने दूसरे बच्चों को भी जीवनदान दिया। रेली ने दो हार्ट वाल्व दान किए और उसके फेफड़े का उपयोग अनुसंधान और विकास के लिए होगा। अमेरिका की इस खबर ने सभी को चौंका  दिया है। वाकई एक माता-पिता के लिए ये पल बेहद ही खतरनाक होगा।

आखिरी दिन थोड़ा सा रोई थी बच्ची- क्रिस्टा और डेरेक ने बताया कि बच्ची एक हफ्ते तक जिंदा था। ये पल हम दोनों के लिए बेहद खास था। हफ्तेभर में वह एक बार भी नहीं रोई। हमने उसकी आवाज तक नहीं सुनी थी। हां लेकिन आखिरी दिन वो जरूर रोई थी। जब वह रोई थी उस वक्त उसके शरीर में ऑक्सीजन का लेवल बहुत कम हो गया था। उसके हार्ट वॉल्व दो बच्चों को दिए गए और फेफड़े रिसर्च हॉस्पिटल को दिए गए। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *