हर पति-पत्नी को जरूर पढ़नी चाहिए ये छोटी सी कहानी… यकीन मानिए आज से ही आपकी जिंदगी बदल जाएगी

New Delhi:  एक कुर्ते या साड़ी के लिए मुंह फुलाने वाली पत्नियां या जूतों के लिए जमीन पर लेट जानेवाले बच्चे तो घर में या ऐसे शॉपिंग मॉल में कहीं पर भी मिल जाते हैं। पर अपनी पसंद का शर्ट ना लेने पर मुंह फुलाने वाला पति किसी ने देखा? या बिलिंग काउंटर छोड़कर चले जाने वाला पिता या पति किसी ने देखा? कल छुट्टी थी तो शॉपिंग के लिए मॉल गई थी। बिलिंग में लंबी लाइन थी। मैं ट्रॉली लिए लाइन में खड़ी थी। मेरे आगे एक फैमिली अपना बिलिंग करवा रहा था। बच्चे ट्रॉली से अपना मनपसंद समान उठाकर बिल के लिए रख रहे थे। उनकी मां ने भी दीवाली के डेकोरेशन के लिए खूब सारी चीजें ली थी। और साइड में खड़े पापा की नजर सिर्फ कंप्यूटर स्क्रीन पर थी, बिल के लगातार बढ़ रहे आंकड़े पर।अच्छी खासी अमाउंट हो जाने के बाद उन बच्चों के पापा ने कैशियर से आगे का सामान वापस रखने को कहा।

बच्चे कहने लगे पापा इतना क्यों वापस कर दिया? ये झूमर मम्मी को कितना पसंद है। मां ने भी बच्चों के सुर में सुर मिलाए अरे ले लो ना। दीवाली में कुछ नया तो लगना चाहिए। पापा ने सब बातों को अनसुना कर अपना वॉलेट निकाला। पैसे गिनकर देने के बाद उनके वॉलेट में सिर्फ एक 50 का नोट बचा था, जिस पर ना बच्चों का ध्यान था ना मां का। बच्चे अभी भी डिमांड्स रख रहे थे और वो पिता अपने वॉलेट को वापस जेब में रखते वक्त इतना थका हुआ महसूस कर रहा था। मैं पीछे खड़ी उस पिता के चेहरे के भावों को पढ़ने की कोशिश कर रही थी। बेशक वो पैसे जाने की वजह से दुःखी नहीं था, पर सामान वापस रखवाकर अपने परिवार की कुछ खुशियों को लौटाने के लिए दुःखी ज़रूर था। शायद खुद को बेबस महसूस कर रहा था। चेहरे की झुर्रियों में उसके परिश्रम की आभा दिखाई दे रही थी।

Quaint Media

ट्रॉली में लदा हुआ सामान देखकर इस बात का तो अंदाजा हो गया कि इसमें से शायद एक शर्ट भी उस बाप की नहीं थी, पर बीवी और बच्चों को अच्छी खासी खरीदारी करवाई थी। मैं सोच रही थी कि हम सब मां के बलिदानों, मां के समर्पण और सहृदयता के गुणगान गाते हैं पर बिना कुछ कहे, पूरी दुनिया के उलाहने कि तुम तो बड़े कंजूस हो, तुम्हें मेरी कोई कद्र नहीं, तुमने मुझे कभी समझा ही नहीं, तुम क्या जानो औरत होना क्या होता है, तुम नौकरी करने के सिवा करते ही क्या हो, मैं कितना कुछ करती हूं परिवार के लिए फिर भी….अनगिनत है जिसका रोना हम पत्नियां अक्सर बिना भूले करती हैं। एक पिता कितना त्याग करता है अपने परिवार के लिए ये हम कभी सोचती हैं?

पत्नी वर्किंग हो या घरेलू, दीवाली गिफ्ट तो पति ही देते हैं, ऐसा एक अनकहा नियम है हमारे यहां…ये सब उनका प्यार, त्याग है। आपकी ख्वाहिशें पूरी करने के लिए वो ऑफिस में बहुत कुछ झेलते हैं। कई पतियों ने तो इस महीने ज्यादा से ज्यादा सेल बढ़ाने की कोशिश की होगी ताकि तगड़ा इंसेंटिव मिले और परिवार की हर खुशियाँ कायम रहे। दिन रात ज्यादा से ज्यादा कैसे कमाया जाए ये उनके दिमाग में हमेशा रहता है। उनकी इस ईमानदारी की कद्र करें। इस दीवाली उनके लिए भी कुछ स्पेशल कीजिये। गिफ़्ट लेना उन्हें भी अच्छा लगता है, इस मामले में कोई जेंडर डिस्क्रिमिनेशन नहीं होता।

डॉ हृदेश चौधरी प्रस्तुत की गई इस कहानी से हमें ये सीखने को जरूर मिला कि दीवाली की खरीदारी करते वक्त अपने पति की जेब की वजन क्षमता को नजरअंदाज ना करें। खर्चीली पत्नी बनना कोई शान की बात नहीं है। बाजार तो चीजोॆ  से भरे पड़े हैं पर अपना घर बाज़ार लगने लगे ऐसी अंधाधुंध खरीदारी से बचें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *