सिर्फ 8 घंटे का एनका’उंटर और जवानों के आगे नहीं टिक पाए आतं’की,एकसाथ 5 आतं’कियों का किया सफाया

New Delhi: सेना ने रविवार 10 फरवरी को को कुलगाम में एक बड़े ऑपरेशन में पांच आतं’कियों को मा’र गिराया है। एनकाउं’टर 8 घंटे से ज्यादा वक्त तक चला। मा’रे गए आतं’कियों के पास से सुरक्षाबलों ने भारी मात्रा में हथि’यार,गो’ला, बारू’द और अन्य सामान बरामद किया है। जवानों के मुताबिक, मा’रे गए आतं’की हिज्बुल मुजाहिदीन और लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े थे।  सर्च ऑपरेशन के दौरान दो घरों में छिपे आतं’कियों ने सुरक्षाबलों पर फाय’रिंग कर दी। जवानों ने भी जवाबी कार्रवाई करते हुए आतं’कियों के खिलाफ काउंटर ऑपरेशन शुरू किया। 

इससे पहले सेना ने लाइन ऑफ कंट्रोल से सटे उरी कैंप के पास संदिग्धों को देखने के बाद सुरक्षाबलों ने फा’यरिंग की। जम्मू-कश्मीर के उरी में मौजूद आर्मी कैंप के पास संदिग्ध गतिविधि देखने को मिली है।  पुलिस का कहना है कि सोमवार सुबह आर्मी यूनिट ने कुछ संदिग्धों को देखा, जिसके बाद सुरक्षाबलों ने ओपन फा’यरिंग की। इस तरह की संदि’ग्ध गतिविधियों को देखते हुए सुरक्षाबलों ने इलाके को चारों तरफ से घेर लिया है। सेना ने बड़े पैमाने पर सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया है।

पुलिस के मुताबिक, ये सुबह करीब 3 बजे की घटना है। सेना ने सोमवार 11 फरवरी को दो लोगों को देखा था। पुलिस का कहना है कि फा’यरिंग की वजह से कुछ लोगों को चोट पहुंच सकती है, लेकिन अभी तक कोई डे’ड बॉ’डी बरामद नहीं हुई है। पुलिस ने अभी तक किसी ह’मले की पुष्टि नहीं की है। हालांकि, जवानों का कहना है कि ये कोई बड़ा आतं’की साजिश हो सकता है।

Quaint Media

बता दें कि इससे पहले जम्मू कश्मीर के बारामूला से जैश का आतं’की पकड़ा गया था। सेना के जाबांज जवानों ने इस आतं’की को जिंदा पकड़ा। सेना ने बताया कि खुफिया जानकारी के आधार पर इस आतं’की को पकड़ा गया। इससे पहले जम्मू कश्मीर पुलिस ने  उत्तरी कश्मीर के बारामुला व सोपोर में सक्रिय जैश-ए-मोहम्मद के एक ग्रे’नेड थ्रो’अर मा’ड्यूल को ध्वस्त करते हुए तीन आ’तंकि’यों को पकड़ लिया था। जानकारी के मुताबिक, इन आतं’कियो ने हाल ही में सीआरपीएफ कैंप पर ह’मला किया था।

पिछले कुछ दिनों से देश के अलग-अलग राज्यों में सं’दिग्ध आ’तंकी और आतं’की गंतिविधियों से संबधित लोगों के गिरफ्तारी की खबर सामने आ रहे हैं। इसी कड़ी में केरल में एक सं’दिग्ध आ’तंकी पकड़ा गया था। इस संदिग्ध को पश्चिम बंगाल एसटीएफ और केरल पुलिस ने संयुक्त अभियान में पकड़ा है। इस सं’दिग्ध की पहचान अब्दुल मतीन के रूप में हुई है जो केरल के मलप्पुरम जिले से पकड़ा गया है।

पुलिस के मुताबिक अब्दुल मंजेरी के पास एडावन्ना की एक स्थानीय मस्जिद में इमाम था। इसे मंजेरी एडावन्ना बॉर्डर से हिरासत में लिया गया।साल 2014 में पश्चिम बंगाल के बर्दवान में हुए विस्फोट में अब्दुल मतीन आरोपी है। अब्दुल मतीन पश्चिम बंगाल के ब’र्दवान में हुए वि’स्फो’ट के मुख्य अभियुक्तों में से एक है, जो 2 अक्टूबर, 2014 को हुआ था। इस विस्फोट के पीछे जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश का हाथ होने का संदेह है। यह विस्फोट तृणमूल कांग्रेस के एक नेता नुरुल हसन चौधरी के घर में हुआ था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *