मां ने पूजा करके घर में रखवाई शहीद बेटे की प्रतिमा…नजारा देख भर आईं लोगों की आंखें

New Delhi:  मप्र में एक रोचक मामला सामने आया है। जहां एक मां का अपने शहीद बेटे के लिए प्यार दिखा। दरअसल मप्र के बैतूल के गांव खेड़ली में शहीद दिलीप उइके की प्रतिमा लगने के लिए पहुंची। यह प्रतिमा भोपाल से खेड़ली गांव पहुंची थी।

दिलीप 16वीं राजपूताना बटालियन में राइफलमैन थे। 14 अप्रैल 2014 में जम्मू कश्मीर में ड्यूटी के दौरान वो शहीद हो गए थे। उनकी प्रतिमा लेने के लिए माता-पिता भोपाल गए थे। जहां पर शहीद के माता-पिता ने पहले पीले चावल डालकर शहीद बेटे की प्रतिमा को घर आने का न्यौता दिया। मां ने बेटे से कहा- चल बेटा घर चल, अब दो महीने तक साथ में रहना।

शहीद दिलीप की प्रतिमा का अनावरण उनके जन्म दिवस 10 अप्रैल को होना था लेकिन आचार संहिता के कारण यह कार्यक्रम अब दो माह बाद होगा। दिलीप की प्रतिमा का पटाखे फोड़कर गांव में स्वागत किया गया। गांव की बेटियों ने शहीद परिवार के घर के आंगन में रंगोली बनाई और प्रतिमा की आरती उतारी। इसके बाद प्रतिमा को पूजा घर में सुरक्षित रखवा दिया है।

आचार संहिता के नियम  :  आचार संहिता लागू होने के बाद तमाम नियम भी लागू हो जाते हैं जिनक अवहेलनाा कोई भी राजनीतिक दल या राजनेता नहीं कर सकता है। सार्वजनिक धन का इस्तेमाल किसी ऐसे कार्य में नहीं होगा जिससे किसी विशेष राजनीतिक दल या राजनेता को फायदा हो। सरकारी गाड़ी, सरकारी विमान या सरकारी बंगले का इस्तेमाल चुनाव प्रचार के लिए नहीं होगा। किसी भी तरह की सरकारी घोषणाएं, लोकार्पण, शिलान्यास नहीं होगा। किसी भी राजनीतिक दल, प्रत्याशी, राजनेता या समर्थकों को कोई रैली करनी हो तो उसकी इजाज़त पहले पुलिस से लेनी होगी। किसी भी रैली में धर्म के नाम पर वोट नहीं मांगे जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *